बाल विवाह व दहेज प्रथा को लेकर जागरुकता अभियान

बक्सर (सोनू सिहं) : बिहार सरकार बाल विवाह और दहेज प्रथा के विरुद्ध लोगों को जागरूक करने के लिए कई अभियान चला रही है, ताकि बिहार बाल विवाह और दहेज मुक्त राज्य बनकर देश के अन्य राज्यों के सामने एक मिसाल बन सके| जिसे देखते हुए जिले के केसठ़ प्रखंड के नया बाजार चौक पर भी गुरूवार को बाल विवाह व दहेज उन्मूलन के लिए लोगों को जागरूक करने के लिए साक्षर भारत मिशन के तत्वधान में नुक्कड़ नाटक का आयोजन किया गया| कार्यक्रम का नेतृत्व वरीय प्रेरक संजय कुमार ने किया, विभाग की ओर से ग्रामीण इलाकों में जन जागरण पैदा करने के लिए चलाए जा रहे इस अभियान में शामिल कलाकारों ने कला के माध्यम से लोगों को बताया गया कि बाल विवाह व दहेज प्रथा उन्मूलन अभियान का उल्लंघन करने पर पांच साल के कारावास व एक लाख रुपए तक के जुर्माने की सजा हो सकती है|

कम उम्र की कलाकारों ने नारा के माध्यम से कहा कि, कम उम्र की शादी रोकें, जीवन की बर्बादी रोकें| मुख्य कार्यक्रम समन्वयक रामजी प्रसाद ने कहा कि 21 वर्ष से कम उम्र के लड़के एवं 18 वर्ष से कम उम्र की लड़की की शादी बाल विवाह है| जो कानूनन अपराध भी माना जाता है| बाल विवाह कराने व शामील होने वाले बाराती, पंडित और सरियाती सभी बाल विवाह कानून के दोषी माने जायेंगे| बिटिया मेरी अभी पढ़ेगी, शादी की शूली नहीं चढ़ेगी| आओ सब मिलकर बात करें, बंद हो दहेज शुरूआत करें| बेटी है एक वरदान, दहेज देकर मत करो अपमान आदि नारो से लोगों को जागरुक किया| मौके पर पुनम कुमारी, रिंकी कुमारी , रचना कुमारी, नीतू कुमारी, अजय कुमार, मनोज प्रसाद, रंजन कुमार सिंह समेत अन्य लोग मौजूद थे|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *